Apni Aankho Ke Samundar Mein Utar Jaane De

Apni Aankho Ke Samundar Mein Utar Jaane De,
Tera Mujrim Hoon Mujhe Doob Ke Mar Jaane De

Ay Nayey Dosth Main Samjhoonga Tujhe Bhee Apna,
Pehle Maazi Ka Koi Zakhm To Bhar Jaane De

Aag Duniya Ki Lagayee Hui Bhuj Jayeygee,
Koi Aansoo Mere Daaman Pe Bikhar Jaane De

Zakhm Kitne Teri Chaahat Se Mile Hain Mujko,
Sonchtaa Hoon Ki Kahoon Tujhse Magar Jaane De

 Lyrics: Nazir Bakri
अपनी आँखों के समंदर में उतर जाने दे।
तेरा मुजरिम हूँ मुझे डूब के मर जाने दे।
ऐ नए दोस्त मैं समझूँगा तुझे भी अपना
पहले माज़ी का कोई ज़ख़्म तो भर जाने दे।
आग दुनिया की लगाई हुई बुझ जाएगी
कोई आँसू मेरे दामन पर बिखर जाने दे।
ज़ख़्म कितने तेरी चाहत से मिले हैं मुझको
सोचता हूँ कि कहूँ तुझसे मगर जाने दे।
शायर: नज़ीर बाकरी
Listen/watch on Youtube:
Jagjit Singh

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें