Lab Pe Aati Hai Dua Banke Tamanna Meri


Lab Pe Aati Hai Dua Banke Tamanna Meri
Zindagi Shamma Ki Surat Ho Khuda Ya Meri

Ho Mere Dum Se Yun Hi Mere Watan Ki Zeenat
Jis Tarah Phool Se Hoti Hai Chaman Ki Zeenat

Zindagi Ho Meri Parwaane Ki Surat Ya Rab
ILm Ki Shamma Se Ho Mujhko Mohabbat Ya Rab

Ho Mera Kaam Garibon Ki Himaayat Karna
Dard Mando Se Zaeefon Se Mohabbat Karna

Mere Allaah Buraayee Se Bachchana Mujhko
Nek Jo Raah Ho Uss Reh Pe Chalaana Mujhko

Album: Cry for Cry (1995)
By: SIZA ROY
Lyrics:Mohammad Iqbal
लब पे आती है दुआ बनके तमन्ना मेरी
ज़िन्दगी शमअ की सूरत हो ख़ुदाया मेरी
दूर दुनिया का मेरे दम अँधेरा हो जाये
हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाये

हो मेरे दम से यूँ ही मेरे वतन की ज़ीनत
जिस तरह फूल से होती है चमन की ज़ीनत

ज़िन्दगी हो मेरी परवाने की सूरत या रब
इल्म की शमअ से हो मुझको मोहब्बत या रब

हो मेरा काम ग़रीबों की हिमायत करना
दर्द-मंदों से ज़इफ़ों से मोहब्बत करना

मेरे अल्लाह बुराई से बचाना मुझको
नेक जो राह हो उस राह पे चलाना मुझको
Listen on YOUTUBE.Com
Singer: SIZA ROY
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें